Matra Shakti Tumhen Pranam

Author: Louise L Hay

Publisher: Prabhat Prakashan

ISBN:

Category:

Page:

View: 290

"मातृ शक्‍ति तुम्हें प्रणाम नारी शक्‍ति का प्रतीक है, समर्पण का प्राण-तत्त्व है और मानव जाति के अस्तित्व मात्र का कारण। यदि नारी का सम्मान नहीं तो समाज का पतन अवश्यंभावी है। अंतरराष्‍ट्रीय ख्याति की लेखिका लुइस एल. हे की पुस्तक नारी के इस शक्‍ति-स्वरूप होने का महत्त्व दरशाती है।स्वाभिमान एवं आत्मसम्मान महिलाओं के सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण गुण हैं। यदि उनके पास ये गुण नहीं हैं तो उन्हें ये गुण विकसित करने होंगे। जब उनकी अंतरात्मा बलवती होगी, तभी वे हीनभावना और अपमान बिलकुल बरदाश्त नहीं करेंगी। नारी का दमन तभी हो पाता है, जब वे प्रतिकार नहीं करतीं और यह मान लेती हैं कि हम बेकार हैं।कुछ नया, कुछ पुराना के अनूठे संगम से रचित इस पुस्तक से महिलाओं को अपनी अंतःशक्‍ति पहचानने में मदद मिलेगी। नारी की अस्मिता, उसके गौरव, उसकी अप्रतिम भूमिका को समर्पित है यह पुस्तक, जो समाज में स्‍‍त्री के सम्मान को पुनर्स्थापित करेगी।"